Screenshot 2021-04-04 at 21.28.08.png

आदिवासी
आवाज़

आदिवासियों की कहानी, आदिवासियों की ज़ुबानी

 

आदिवासी, ब्लॉगर्स, व्लॉगर्स और इंफ्लुएंसर्स की हो रही है खोज!

 

यदि आप छत्तीसगढ़, त्रिपुरा और तमिलनाडु के एक आदिवासी क्रिएटर हैं, जो अपनी आवाज़ को विस्तार देना चाहते हैं, तो शामिल हो जाइये, आपके ज़रूरतों के अनुसार बनाये गए हमारे इस प्रशिक्षण में।

 

इस सात दिवसीय गहन पाठ्यक्रम में नामी प्रशिक्षकों के साथ प्रशिक्षण सत्र होंगे, जो आपको डिजिटल कथाकार बनने में मार्गदर्शन करेंगे। अपने आवाज़ को पूरी दुनिया तक पहुँचाइए और अपने कंटेंट के जरिये दिखिए विश्व पटल पर।

छत्तीसगढ़ के लिए ट्रेनिंग:- 12 सितम्बर से 18 सितम्बर

heroimage2.png
heroimage7.png
heroimage3.png
heroimage1.png
heroimage6.png
heroimage4.png
heroimage5.png

क्या आप आदिवासी या आदिवासी युवा हैं जो अपनी संस्कृति और समुदाय की आवाज बनना चाहते हैं?

Participants in a training of Adivasi Aw

कैसे करें आवेदन? यह उतना ही आसान है, जैसे 1-2-3:-

  • हमारे वेबसाइट adivasilivesmatter.com पर भरिये एक छोटा सा फॉर्म

  • अपने लेखन का एक नमूना (400 शब्दों का लेख), या 2 मिनट का वीडियो, या 15 सेकंड की रील तैयार करें जो आपकी पत्रकारिता या फ़िल्म निर्माण या सोशल मीडिया के प्रतिभा को प्रदर्शित करता हो।

  • इंस्टाग्राम पर अपनी सामग्री अपलोड करें, और  हैशटैग #AdivasiAwaaz2021 के साथ हमें यानी @adivasilivesmatter को टैग करें।

क्या है इस पिटारे में?

  • डिजिटल जगत के अग्रणी प्रशिक्षकों के साथ सात दिनों की ट्रेनिंग 

  • ALM की मर्चेंडाइज किट, जिसमें होंगे- टीशर्ट, मास्क और बैग

  • डिजिटल कहानीकार बनने के लिए मिलेंगे, टिप्स और मार्गदर्शन

  • लेख कैसे लिखें? वीडियो कैसे बनाएं? और सोशल मीडिया का अधिकतम उपयोग कैसे करें? इस पर होगी एक पूरी पाठ्यक्रम

  • आदिवासी लाइव्स मैटर के साथ इंटर्नशिप के मिलेंगे अवसर 

  • आपको मिलेंगे हिंदी, तमिल और अंग्रेज़ी में मौजूद 45 विशेष प्रशिक्षण वीडियो

  • पत्रकारिता, फिल्म निर्माण और सोशल मीडिया के सबसे बड़े नामों वाले अतिथियों के साथ होगी बातचीत

प्रशिक्षण प्रक्रिया

चयनित उम्मीदवारों को छत्तीसगढ़, तमिलनाडु और त्रिपुरा के हमारे प्रशिक्षण केंद्रों में आमंत्रित किया जाएगा, जहाँ उन्हें हमारी टीम में मौजूद विशेषज्ञों द्वारा व्यक्तिगत रूप से प्रशिक्षण मिलेगा।अभ्यर्थियों को सात दिनों तक केंद्र में रहना होगा।​

सदस्यशुल्क

प्रत्येक चयनित प्रतिभागी को  पाठ्यक्रम के लिए 1000 रुपये का भुगतान करना होगा, प्रशिक्षण की पूरी अवधि में रहने और खाने की व्यवस्था हमारी ओर से होगी।

DSC05678.ARW.jpg

पिछले दो वर्षों में, #आदिवासी आवाज़ अकादमी ने 140 से अधिक डिजिटल कहानीकारों को सलाह दी है, जिन्होंने 400+ मूल सामग्री टुकड़े बनाए हैं

हम समझते हैं कि इस प्रशिक्षण के बारे में आपके कई प्रश्न हो सकते हैं। यहाँ हम आपके कुछ सवालों के जवाब देने की कोशिश करते हैं: 

+ इस प्रशिक्षण से हम क्या सीखेंगे?

+ हमें इस प्रशिक्षण में दाखिला क्यों लेना चाहिए? 

+ यह पाठ्यक्रम आदिवासी केन्द्रित क्यों है? 

+ क्या इस कोर्स में दाखिला लेने के लिए यह सही समय है? 

+ हम पहले से ही कॉलेज में नामांकित हैं और भी बहुत सारे काम हैं। हम अपने व्यस्त कार्यक्रम में पाठ्यक्रम को कैसे फिट कर सकते हैं? 

+ क्या मेरे करियर निर्माण के सन्दर्भ में इस पाठ्यक्रम की कोई प्रासंगिकता है? 

+ आदिवासी लाइव्स मैटर क्या है? 

+ आदिवासी आवाज़ क्या है?