top of page

जानिए छत्तीसगढ़ के आदिवासी गांव में कोचई की खेती और उसके फ़ायदों के बारे में

Updated: Feb 4, 2021

भारत के अलग-अलग राज्यों में कोचई को अलग-अलग नामों से जाना जाता है। कई राज्यों में इसे अरबी कहते है, लेकिन छत्तीसगढ़ में लोग इसे कोचई कहते है। कोचई का उपयोग ज़्यादातर सब्जी के रूप में होता हैं। यह एक कन्द के रूप में प्राप्त होता है। छत्तीसगढ़ में इसकी सब्ज़ी आदिवासियों को बहुत पसंद है।

देशी कोचई


कोचई खेती की प्रक्रिया


कोचई की खेती बाड़ी में की जाती है। बाड़ी में जिस जगह पर खेती करनी होती है, उस जगह के घास-फूस को पहले हटाया जाता है। फिर निंदायी की जाती हैं या कोई हल (नांगर) से जोताई भी की जाती हैं। इस तरह से बाड़ी को साफ कर लेते हैं। फिर उसमें मान्दा बनाकर कोचई को लगाते हैं।


जिस जगह पर कोचई की खेती करनी होती है, उस जगह पर गोबर खाद या घर से निकलने वाली अपशिष्ट पदार्थों से खाद बनाकर डालते हैं, जिससे वह मिट्टी उपजाऊ हो जाती हैं और उपज अच्छी होती है। कोचई की खेती मिट्टी को ध्यान में रखते हुए करते हैं। कोचई सभी प्रकार की मिट्टी में नहीं होती है। इसे अक्सर काली मिट्टी मे उगाया जाता है।

कोचई लगाते हुए


कोचई को जब लगाना होता है, तब उसको पहले से निकाल के रख देते हैं और उसमें छोटी जड़ी निकलने लगती है। फिर उसको बाड़ी में मान्दा बनाकर लगा देते हैं। मान्दा बनाने के लिए फावड़े से मिट्टी को चारों तरफ से खीचते हैं और इकठ्ठा करते हैं। फिर एक मान्दा में लगभग तीन-चार जगह कोचई को लगाते हैं।


कोचई लगाने के बाद उसको मिट्टी से ढक देते हैं। कोचई लगभग एक सप्ताह में तैयार हो जाती हैं और उसके पत्ते निकलने लगते है। कोचई को बड़ा हो जाने पर कोढिया दे देते हैं, जिससे वह अच्छे से बढ़ता है और उसका कन्द भी बड़ा होता हैं। कोचई को लगाने के बाद उसके मान्दा को ढक देते हैं, या उसके ऊपर गीले गोबर से छाप देते हैं, जिससे कोचई जल्दी उग जाता है।


कोचई जून- जुलाई में लगाया जाता है और उसकी नवम्बर- दिसम्बर में खुदाई की जाती है।

खेती के लिए बनाया हुआ मांदा


कोचई के तीन प्राकार


1.देशी कोचई- देशी कोचई बरसात में जून-जुलाई माह में लगाया जाता है। इसे खेत के मेड़ में या मान्दा बनाकर या कियारी बनाकर लगाते हैं।


2.सारू कोचई- यह देशी कोचई से थोड़ा बड़ा होता है। इसके लिए कियारी या मान्दा की जरूरत नहीं पड़ती। जहां गोबर-कचड़ा होता हैं और पानी होता है, ऐसे जगह में इसकी उपज अच्छी होती है।


3.गर्मी कोचई- गर्मी कोचई की उपज नदी के ढलान क्षेत्र में और नदी की रेत में अच्छी होती है। 3- 4 माह में इसकी फसल निकल जाती है।


कोचई का उपयोग


कोचई का उपयोग अक्सर सब्जी के रूप में करते है। कोचई (अरबी) के कन्द से लेकर शाखा और पत्ती सभी का उपयोग सब्जी के लिए लाया जाता है। यह सब्ज़ी बड़ी स्वादिष्ट होती हैं। उड़द दाल को पीसकर कोचई के पत्ते में लपेट कर तेल में तलकर सब्जी बनाई जाती है। इसके और भी उपयोग है। किसी को थोड़ा बहुत जलने पर देशी कोचई को पत्थर से घिसकर मोटी परत जले हुई भाग पर लगाने से ठंडक मिलती है और घाव जल्दी ठीक होता है।


कोचई की खेती करने में ज्यादा मेहनत नहीं लगती है और इस खेती के लिए ज़्यादा पानी की जरूरत नहीं पड़ती। कोचई की खेती कम खर्च में ही हो जाती है। कोचई की कन्द 6 माह में पक कर तैयार हो जाता है। उसके बाद किसान बाजार में इसे बेच कर अच्छे ख़ासे पैसे कमा लेते हैं। कोचई खाने में भी स्वादिष्ट है और सेहत के लिए भी अच्छा होता है।


यह लेख Adivasi Awaaz प्रोजैक्ट के अंतर्गत लिखा गया है, और इसमें Prayog Samaj Sevi Sanstha और Misereor का सहयोग है।


यह लेख पहली बार यूथ की आवाज़ पर प्रकाशित हुआ था

Kommentare


bottom of page