top of page

केर: त्रिपुरी लोगों का सबसे सख़्त त्योहार

केर का शाब्दिक अर्थ है तपस्या। यह पूजा खारची पूजा की समाप्ति के 14 दिन बाद मनाई जाती है। यह त्रिपुरी लोगों द्वारा की जाने वाली सबसे सख्त पूजा है। यहाँ यह उल्लेख किया जा सकता है कि दुनिया भर में किसी भी वर्ग द्वारा कोई भी पूजा इतनी सख्ती से नहीं की जाती है जितनी कि त्रिपुरी लोगों के केर में होती है। इसमें त्रिपुरी लोगों के सभी देवताओं की पूजा की जाती है।


अमा पेची या अंबा बुची के बाद, धरती माता अपवित्र हो जाती है, फिर खारची करने से पृथ्वी शुद्ध हो जाती है, सभी देवी-देवता फिर से पवित्र हो जाती है। यह त्रिपुरी लोगों के अबुल सुमानी या श्राद्ध जैसी कोई चीज़ है जो प्रकृति और देवताओं की एक प्रकार की शुद्धि है।


केर के दौरान एक विशेष क्षेत्र का सीमांकन किया जाता है, यह क्षेत्र केर चिन्ह से घिरा होता है। क्षेत्र, गाँव, शहर के हर प्रवेश या निकास बिंदु की पहचान की जाती है। केर चिन्ह द्वारा प्रवेश या निकास के मार्ग को पूरी तरह से अवरुद्ध किया जाता है। केर पूजा शुरू होने से पहले सभी मरने वाले या गर्भवती माताओं को पड़ोस के गाँवों में स्थानांतरित कर दिया जाता है। एक बार केर शुरू हो जाने के बाद केर से घिरे क्षेत्र से किसी को भी बाहर जाने की अनुमति नहीं होती है। इसी प्रकार किसी को भी गाँव या कस्बे के क्षेत्र की केर सीमा में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाती है। इसे केर क्षेत्र का उल्लंघन माना जाता है। एक बार जब कोई अज्ञात व्यक्ति केर क्षेत्र में प्रवेश करता है तो उसे किसी भी शर्त पर क्षेत्र से बाहर जाने की अनुमति नहीं होती है।

केर पूजा करते ग्रामीण

आमतौर पर केर सुबह लगभग 8-10 बजे शुरू होता है। एक बार केर के शुरू हो जाने के बाद, किसी को भी जोर से बोलने की अनुमति नहीं होती है, किसी को हंसने की इज़ाज़त नहीं होता है। केर परिसर में केर की पूजा के दौरान चिल्लाना, रोना, अश्लील या अपशब्दों का प्रयोग करना, अपमानजनक मजाक करना, बेईमानी की बात करना और किसी भी अन्य अनैतिक गतिविधियों पर पूरी तरह से प्रतिबंध होती है।


केर पूजा में, गाँव के कल्याण के लिए देवताओं की पूजा की जाती है, राज्य स्तर पर महल परिसर में केर, पूरे राज्यों के कल्याण के लिए किया जाता है। प्राकृतिक आपदाओं जैसे - तूफान, भूकंप, बाढ़, सूखा आदि से बचने के लिए देवताओं से प्रार्थना की जाती है। पूजा में विभिन्न प्रकार के जानवरों की बलि दी जा सकती है। ग्रामीणों की सामर्थ्य के अनुसार मुर्गा, बकरा, भैंस आदि की बलि चढ़ाई जाती है। आवश्यक व्यय ग्रामीणों से एकत्र किया जाता है। पहले के दिनों में जब त्रिपुरा एक साम्राज्य था, राजा राज्यों के खर्च का वहन करता था, लेकिन अब राज्य सरकार विलय समझौते की शर्त के अनुसार खर्च वहन कर रही है।


इस बार अगरतला शहर में केर पूजा करने के लिए एक क्षेत्र की पहचान की गई थी। केर सुबह जल्दी शुरू होता है, एक बड़े धमाके की आवाज के साथ, जनता को सूचित किया गया कि केर का आरम्भ किया गया है। इससे पहले राज्यों के इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट मीडिया के माध्यम से भी लोगों को केर के समय के बारे में अग्रिम रूप से सूचित किया जाता है कि यह कब शुरू होगा और कब टूटेगा। त्रिपुरी लोगों के प्रमुख पुजारी चनताई, राजधानी अगरतला में केर करते हैं। गाँवों में गाँव के मुख्य पुजारी ओचाई केर पूजा करते हैं।


लेखक परिचय: खापांग देबबर्मा एनआईटी, अगरतला में सिविल इंजीनियरिंग के छात्र हैं। वह एक चित्रकार और कवि हैं। उन्होंने विभिन्न भाषा, संस्कृति और पर्यावरण संगठनों के साथ काम किया है और कोकबोरोक में कई महत्वपूर्ण ड्राफ्ट का अनुवाद किया है। वह विदेशियों को इंस्टाग्राम, फेसबुक और व्हाट्सएप के जरिए "लर्न त्रिपुरी" नाम के पेज के जरिए त्रिपुरी भाषा भी सिखा रहे हैं।

Kommentit


bottom of page